Hi Friends,

Even as I launch this today ( my 80th Birthday ), I realize that there is yet so much to say and do.

There is just no time to look back, no time to wonder,"Will anyone read these pages?"

With regards,
Hemen Parekh
27 June 2013

Thursday, 21 June 1984

जुदाई


_________________________________________________________________________________

शाम ढल चुकी है
दिनभर की जुदाई के बाद
कैसे जानू
कहाँ है मेरा रैन बसेरा ?

तुम ही कह के बतादोना
" तू है मेरा" ;

तुम्हारी आवाज़  सुन के चला आता हूँ ,
ऐसे  धुंधलेपन से  घिरा हूँ
कुछ देख नहीं पाता,

मेरे तुम्हारे बीच
रात की तनहाई
सोई है।

--------------------------

Written  /  21  June  1984


_______________________________________________________________



Wednesday, 14 March 1984

महफ़िल


_________________________________________________________________________________

किसे खबर कहाँ  जा रहा हूँ
तुम्हारी महफ़िल में भी तो
भूलकर आया हूँ -

बिन बुलाये आया ये सोचकर
अगर मेरा जाम खाली रहा
तो खैर,
तुम्हारा ये असूल है :

मगर ये भी तो सोचो की
औरोने तुम्हारी महफ़िल को
मैखाना बना रखा है -

जब मैंने जीते जी
अरमानोकी मज़ार  पर
तुम्हारा नाम लिखा है !

क्या तुम्हे ये तो कबूल है ?


_____________________________________________________________________________





Monday, 5 March 1984

अमानत


_____________________________________________________
सवाल ये नहीं की
कहा तक मै तुज़े  प्यार करता रहूँगा -

सवाल ये है की
कहा तक मै  जिन्दा  रहूँगा !

इस ज़िन्दगी पर मेरा कोई अधिकार नहीं
ये तुम्हारी अमानत है ,
एक न एक दिन
तुम्हे लौटाना है -

अच्छी तरह
इसे सम्हालने की कोशिश में
अगर असफल  रहा
तो क्या  मुझे दोष दोगी ?

तुमसे प्यार करते करते
तुम्हारी अमानत का खयाल
कुछ कम किया
इसका अफ़सोस मुझे नहीं है।

-------------------------------------------------------------

05  March   1984


_____________________________________________________




 

Wednesday, 1 February 1984

कभी ना कभी


_________________________________________________________________________________

कभी ना  कभी
तेरे मेरे प्यार के सबूत का सवाल
आ ही जाएगा :

सीने  में छुपाए जिस राज़  को,
चलते रहे है ,
वो राज़
राज़ ना  रह  पायेगा :

उस दिन रहम  करना वो दुनियावालों ,
कसम जो  हमने खाई - तुमसे छुपाई -
उसकी अदब  करना ये दुनियावालो ;

हमारे नाम मकबरा नाहीं सही,
हमने तो बना रख्ही है जीते जी
अफसानों की मज़ार

हो सके तो उसकी हिफाज़त  करना ,
 रिश्तेवालों ।



________________________________________________________________________________





Thursday, 26 January 1984

तुम्हारा नाम ले लेंगे


_________________________________________________________________________________

तुम चाहती हो
की
प्यार की एक सुब्ह आये,

क्या जानती हो
मैंने कैसी गुज़ारी  हैं
गमों की
बीस हज़ार  रातें ?

हर रात में अगर
करवटें बदली हैं सौ बार
तो तुम्हे  पुकारा भी हैं
हरबार ;

शायद आनेवाली रातें
कुछ कम होगी
ये सोचके
करवटे बदल देंगे,

सौ के बदले
हजारो बार हर रात में
तुम्हारा नाम ले लेंगे-

ऐसे गम को तोलके
प्यार की एक सुबह
कैसे मोल लूँ ?



______________________________________________________________________________